• 04:43 am
news-details
क्राइम

डेढ़ लाख के आठ मोबाइल तलाशकर मालिकों को सौंपे

अभिनव इंडिया/अजय शर्मा
गुरुग्राम।
पुलिस ने गुम हुए मोबाइलों की तलाश करके गुरुवार को असल मालिकों को सौंपे। सौंपे गए 8 मोबाइलों की कीमत एक लाख 60 हजार रुपए है। ये सब मोबाइल साइबर सैल मानेसर के एएसआई धीरज की ओर से तलाशे गए हैं। सभी मोबाइल मानेसर पुलिस उपायुक्त निकिता गहलोत ने अपने कार्यालय में सौंपे। गुरुग्राम पुलिस की कार्यप्रणाली की सभी मोबाइल मालिकों ने सराहना की। 
वर्तमान समय में प्रत्येक व्यक्ति के लिए मोबाईल फोन जरुरी वस्तु बन गया है। मोबाईल के माध्यम से विभिन्न काम आसानी से व जल्दी हो जाते हैं। लोग अपना सारा रिकॉर्ड, फोटो, बैंक डिटेल व जानकारियां मोबाईल में ही सुरक्षित करके रखते हैं। जो बहुत ही आसान भी है। इसलिए पिछले कुछ वर्षों में मोबाईल फोन का प्रयोग करने वाले लोगों की मात्रा में बहुत भारी ईजाफा हुआ है। मोबाईल फोन गुम होने पर मोबाईल फोन यूजर्स को होने वाला नुकसान व परेशानियों को देखते हुए पुलिस आयुक्त केके राव ने मोबाईल फोन गुम होने के सम्बन्ध में आने वाली सभी सूचनाओं पर गुमशुदा रिपोर्ट अंकित करने के साथ ही यह भी आदेश दिए थे कि गुम हुए मोबाईल फोन्स को पुलिस तकनीकी का प्रयोग करके उन्हें ढूंढकर बरामद करें और असली मालिकों को दे दिए जाएं। 
साइबर सैल दक्षिण के प्रभारी धीरज ने तकनीकी सहायता से गुम हुए 8 मोबाइल ढूंढ निकाले। इनकी अनुमानित कीमत 1 लाख 60 हजार रुपए बताई गई है। ये सभी मोबाइल गुरुवार को असल मालिकों को सौंप दिए गए। इस मौके पर पुलिस उपायुक्त मानेसर नितिका गहलोत ने कहा कि यह भविष्य में भी यह कार्य जारी रहेगा। भविष्य में कोशिश यह रहेगी कि प्रत्येक सप्ताह में बरामद हुए फोन को कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने उपरांत उसी सप्ताह फोन के मालिकों को दे दिए जाएं। उन्होंने आमजन से भी अपील की है कि यदि किसी को कोई फोन मिल जाए तो उसे नजदीकी थाना में जमा करा दें। अपने पास रखकर कानून के विरुद्ध न जाएं और कानूनी झंझट में ना पड़ें।
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments