• 02:48 am
news-details
पंजाब-हरियाणा

डायल 112 पर आई एक हजार से ज्यादा कॉल  

अभिनव इंडिया/एम मुस्तफा
नूंह।
जिला में बनाये गए डायल 112 मिरर कंट्रोल रूम में अगस्त महीने की अवधि में 1 हजार 224 कॅाल प्राप्त हुई। जिसके तहत कॉल प्राप्त होते ही मदद मांगने वाले व्यक्ति को तत्काल सहायता उपलब्ध कराई गई। 
पुलिस अधीक्षक नरेन्द्र बिजारणिया ने बताया कि त्वरित सहायता के उद्देश्य से शुरू की गई यह हेल्प लाइन जिला में काफी कारगर साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि अब आपातकालीन सेवाओं के लिए अलग अलग नम्बर डायल करने की बजाय तीनों आपात सेवाएं पुलिस, अग्निशमन व एम्बुलेंस के लिए अपने फ़ोन से 112 डायल कर इसका लाभ ले सकते है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि  इस पूरी प्रकिया के माध्यम से आपात स्थिति में कॉल करने वाले व्यक्ति तक शहरी क्षेत्र में 10-15 मिनट व ग्रामीण क्षेत्रों में 20 मिनट में आपात सेवाएं पहुँचाकर उसकी हर संभव मदद की जा रही है।                 
पुलिस अधीक्षक नरेन्द्र बिजारणिया ने बताया कि डायल 112 सेवा से जुड़े प्रत्येक वाहन पर 3 पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। साथ ही  वाहन के डैशबोर्ड पर आधुनिक पीएफटी यानी पोर्टेबल फील्ड टेबलेट लगाए गए है जोकि सीधे कंट्रोल रूम से जोड़े गए है। इसके साथ ही सभी वाहनों पर जीपीएस सिस्टम भी लगाया गया जिससे मुख्यालय द्वारा वाहन की मूवमेंट भी ट्रेस की होती रहती है। हेल्पलाइन 112 पर शिकायतकर्ता चार भाषाओं हिंदी, अंग्रेजी, हरियाणवी व पंजाबी में अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते है। इसके लिए कंट्रोल रूम में विशेष रूप से प्रशिक्षित लोगों की नियुक्तियां की गई है। 
आपात स्थिति में एम्बुलेंस की सेवा भी दे रही है ईआरवी:
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सडक़ दुर्घटनाओं जैसी स्वास्थ्य संबंधी आपात स्थिति के लिए डायल 112 वाहन में ट्रेचर आदि की भी व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि डायल 112 से जुड़ी ईआरवी में तैनात सभी कर्मियों को यह निर्देश दिए गए है कि स्वास्थ्य संबंधी आपात स्थिति में एम्बुलेंस का इंतजार किये बिना डायल 112 ईआरवी के माध्यम से संबंधित व्यक्ति को जल्द से जल्द नजदीकी अस्पताल में भर्ती किया जाए।             
नूंह जिला को मिली है 20 ईआरवी:
उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा जिला में स्थित सभी थानों को 2 -2 की संख्या में इमरजेंसी रेस्पांस व्हीकल प्रदान किये गए है। उन्होंने बताया कि जिले में 12 थाने है, महिला थाना व ट्रैफिक थाने को छोडकऱ सभी थानों में दो-दो ईआरवी कार्य कर रही है। 
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments