• 05:08 pm
news-details
खेल

डेथ वैली झील में तैराकी व केएमपी पर साइकिलिंग से आयरन मैन बने सुरेंद्र

अभिनव इंडिया/रंजीता आर्या
नई दिल्ली।
सुविधाओं के अभाव में भी अपने हौंसलों के साथ मंजिल को हास्ंिाल कर स्वदेश लौटे 49 साल के सुरेंद्र यादव के नाम के आगे अब टाइटल जुड़ गया है आयरनमैन। आयरनमैन टाइटल एेसे मजबूत लोगों को मिलता है, जो डब्ल्यूटीसी द्वारा दुनियाभर में आयोजित की जाने वाली ट्रायथलॉन में खुद को बेहतर साबित करते हैं। गुरुग्राम के सुरेंद्र यादव ने एेसा कर दिखाया। सुरेंद्र यादव ने 3.86 किलोमीटर की समुद्र में तैराकी, 18.25 किलोमीटर की साइकिलिंग और 42.2 किलोमीटर की दौड़ 16 घंटे के भीतर पूरी की। पत्रकारों से बातचीत में सुरेंद्र यादव ने कहा कि बेशक हम 21वीं सदी में जी रहे हैं। तकनीकी का दौर चल रहा है। फि र भी देश में खेल और अन्य प्रकार की साहसिक गतिविधियों के लिए कोई उचित सुविधा नहीं है। उन्होंने सरकार से आग्रह किया है कि भारत में प्रतिभायें बहुत हैं, लेकिन सुविधाओं के अभाव में हम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन करने में विफल रहते हैं। उन्होंने बताया कि यहां अभ्यास के लिए कोई बेहतर सुविधा न होने और साइकिलिंग के लिए कोई ट्रैक न होने के बावजूद उन्होंने अपने कदम आगे बढ़ाये। तैराकी के लिए उन्होंने फ रीदाबाद के सूरजकुंड स्थित डेथ वैली झील को चुना और साइकिलिंग के लिए केएमपी एक्सप्रेस-वे को चुना। इन दोनों जगहों पर कड़ी मेहनत करके सुरेंद्र यादव ने खुद को इस प्रतियोगिता के लिए तैयार किया, जो उसे आयरन मैन का खिताब दिला सकती थी। इस स्पर्धा में गुरुग्राम से भाग लेने गये एक अन्य प्रतिभागी राजीव गुप्ता ने कहा कि उन्होंने भी आयरनमैन का खिताब पाने को खूब दम लगाया, लेकिन वे इसमें सफल नहीं हो सके। सुरेंद्र ने 17 अगस्त 2019 को को दुनियाभर के 25 प्रतिभागियों के बीच प्रतिस्पर्धा की और कामयाबी हांसिल की। अगस्त 2018 में वह इस प्रतिस्पर्धा में भाग लेने से वंचित रह गये थे। एक दुर्घटना में उनके बायें कंधे पर चोटें आई। लेकिन इस खिताब को पाने को वे बेताब थे और इस साल उन्होंने पूरी तैयारी की। उन्होंने बताया कि अधिकांश प्रतिभागी 30 से 35 वर्ष आयुवर्ग के 75 किलोग्राम के औसत वजन वाले थे। प्रतियोगिता से पहले उनका वजन करीब 90 किलो था। तीन सप्ताह के भीतर उन्होंने अपना वजन कम किया और खुद को इस प्रतिस्पर्धा के लायक बनाया। इस प्रतियोगिता में सुरेंद्र यादव ने बाल्टिक सागर में 3.86 किलोमीटर तैराकी करने के बाद 18.25 किलोमीटर साइकिल रेस में हिस्सा लिया। स्वीडन में 42.2 किलोमीटर दौड करने के बाद 16 घंटे की निर्धारित सीमा के भीतर आयरनमैन का खिताब हासिल किया। पत्रकारों से बातचीत के दौरान उनके साथ जीआईए के खजांची विनोद गुप्ता, राजेश गोयल, रामकिशन, मानव आवाज संस्था के संयोजक एवं सामाजिक कार्यकर्ता एडवोकेट अभय जैन सहित शामिल रहे।
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments