• 03:04 am
news-details
धर्म-कर्म

अंधेरे से निकालकर प्रकाश का संचार करता है मकर संक्रांति पर्व

-किसानों के लिए महत्वपूर्ण है मकर संक्रांति का दिन
अभिनव इंडिया/परमेंद्र कौशिक
नूंह।
मकर संक्रांति का हिंदू धर्म में अपना एक विशेष महत्वपूर्ण स्थान है। इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं। जिसकी वजह से रात्रि छोटी हो जाती है और दिन बड़े होना शुरू हो जाता है। 
समाजसेवी रजत जैन व नेम चंद गोयल मूलथानी ने बताया कि मकर संक्रांति का दिन किसानों के लिए अत्याधिक महत्वपूर्ण होता है। देश के किसान अपनी फसलों को काटते हैं। मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाया जाने वाला त्यौहार है। यह वह दिन होता है जब सूर्य उत्तर की ओर बढ़ता है। मकर संक्रांति का पर्व सभी को अंधेरे से निकालकर रोशनी (प्रकाश) की ओर बढऩे की प्रेरणा देता है। यह दिन सभी को नई ऊर्जा उत्साह के साथ काम करने की प्रेरणा देता है व साथ-साथ नए संचार का भी योग बनाता है। मकर संक्रांति वाले दिन पर्यावरण में अधिक चैतन्य के साथ अधिकतम दिव्य शक्तियां रहती है। जो ज्यादा से ज्यादा आध्यात्मिक लाभ प्रदान करती है। इस दिन गंगा स्नान का भी विशेष महत्व होता है। इस दिन गौ माता की सेवा करने के करने से विशेष लाभ प्राप्त होता है और लोग अधिक से अधिक गौ माता की सेवा कर उसका पुण्य प्राप्त करते हंै। 
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments