• 03:29 pm
news-details
रंगमंच

कलाकार का कोई धर्म, जाति या राजनीतिक दल नहीं: संजय भसीन

अभिनव इंडिया/अजय शर्मा
गुरुग्राम।
कलाकार की पहचान कला ही है। कलाकार किसी भी राजनीतिक दल, जाति या धर्म से सम्बंध नहीं रखते। यह बात हरियाणा कला परिषद के निदेशक संजय भसीन ने कला कीर्ति भवन के सभागार में लोक कलाकारों से रूबरू होते हुए कही।   
कोरोना महामारी में मंचीय प्रस्तुतियां बंद रहने के कारण प्रदेश के लोक कलाकार, जिनमें सांग, बीन, नगाड़ा, बंचारी, जंगम, सारंगी आदि को मंच नहीं मिल पाया। एेसे में हरियाणा कला परिषद द्वारा प्रारम्भ की गई ऑनलाईन प्रस्तुतियों में अपनी प्रतिभा दिखाने तथा आगामी दिनों में लोक कलाकारों के कार्यक्रम आयोजित करने बारे प्रदेश के कलाकार कला परिषद् के निदेशक संजय भसीन से भेंट करने पहुंचे। कोरोना महामारी से बचाव के लिए नियमों का पालन करते हुए तथा सोशल डिस्टेंस में आयोजित बैठक में अपने मन के भावों को व्यक्त करते हुए लोक कलाकारों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल का आभार जताया, जिनके कारण हरियाणा कला परिषद द्वारा कोरोना महामारी में कलाकारों को मानदेय की अदायगी की गई। वहीं कलाकारों ने अपनी समस्यायों से भी संजय भसीन को अवगत करवाया तथा पगड़ी पहनाकर संजय भसीन का सम्मान किया। जिसके बाद संजय भसीन ने लोक कलाकारों की समस्याओं के निवारण हेतु संस्कृति मंत्री तथा मुख्यमंत्री से भेंट करने का आश्वासन दिया। 
इस मौके पर जींद से सांग कलाकार वेदप्रकाश अत्री, हिसार से कृष्ण कुमार, नगाड़ा वादक मेनपाल, सांगी समंदर सिंह, कृष्ण लाल शास्त्री, मंजीत सिंह, गुलाब, राजा, नफेसिंह के अलावा शीशपाल, प्रदीप बहमनी, सोनू कुण्डू, हरियाणा कला परिषद के कार्यालय प्रमुख धर्मपाल, मीडिया प्रभारी विकास शर्मा, रंगशाला प्रबंधक मनीष डोगरा भी उपस्थित रहे।
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments