• 04:09 pm
news-details
शख्सियत

जिंदगी का सफर....

जिंदगी का सफर....
सुबह सफर है शाम सफर 
इस जीवन का है नाम सफर
चलते जाना तू निरन्तर
चाहे टेडी मेढ़ी हो डगर
हौसलों को कर बुलंद
सरल होता जाएगा सफर
निशाना साध कर जो तू चलेगा
मंजिल की ओर तू शत प्रतिशत बढ़ेगा
भरोसा खुद पर रखेगा
ना रुकेगा बीच डगर
मिलेंगे मीत  जीवन के, अगर
पहचान है बेहतर
अहित ना हो जाए किसी का
कट जाएगी ये शामो शहर 
अपनी हिम्मतों से चल, ना
पल भर देख मुडक़र
सुबह सफर है शाम सफर है
इस जीवन का नाम सफर है

.... रजनी बाला (बिजनौर)


 

You can share this post!

Comments

Leave Comments