• 03:41 pm
news-details
खेती

बेरोजगार युवाओं को मछली पालन पर 60 फीसदी तक सब्सिडी

अभिनव इंडिया/अजय शर्मा
गुरुग्राम।
बेरोजगार युवाओं के लिये मछली पालन में रोजगार की आपार संभावनाएं हैं। अब किसान मत्स्य पालन व्यवसाय अपनाकर एक बेहतर रोजगार प्राप्त कर सकते हैं। मत्स्य पालन के लिए सरकार सब्सिडी देती है। सामान्य वर्ग के व्यक्ति को सरकार की ओर से 40 प्रतिशत सब्सिडी और महिला व अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्ति को 60 प्रतिशत तक की सब्सिडी सरकार द्वारा दी जाती है। 
गुरुग्राम जिला के नौजवान मत्स्य किसानों ने अन्य मत्स्य किसानों के लिए पहली बार में ही 16 हजार किलोग्राम का उत्पादन करते हुए एक उदाहरण पेश किया है। जिला के खेड़ा झांझरोला में मत्स्य पालन कर रहे मत्स्य किसान साहिल शर्मा और रिचा शर्मा ने पहली बार में ही दो हेक्टेयर में 8-8 हजार किलो ग्राम सफेद झींगा का उत्पादन किया जो अपने आप में एक बड़ा उत्पादन है। इन दोनों किसानों ने एक एक हेक्टेयर भूमि पर जून महीने में मछली के लिए बीज डाले थे और सितंबर महीने तक इन्होंने कुल 16 हजार किलो ग्राम मछली का उत्पादन किया है। उन्होंने बताया कि इन दोनों किसानों ने राष्ट्रीय किसान विकास योजना के अन्तगत हरियाणा सरकार की ओर से सब्सिडी का लाभ लेते हुए यह व्यवसाय शुरु किया। इन्होंने एक बेहद कम समय में अच्छा मुनाफा भी कमाया। 
जिला उपायुक्त अमित खत्री व जिला मत्स्य अधिकारी धर्मेंद्र सिंह का कहना है कि 1 हेक्टेयर भूमि पर मछली के उत्पादन के लिए एक विशेष तालाब का निर्माण करना होता है। जिसके बाद निर्माण लागत राशि की भरपाई सब्सिडी के तौर पर दी जाती है। मत्स्य उत्पादन में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। मत्स्य किसान एक हेक्टेयर झींगा पालन से एक साल में दो फसल लेकर 10 से 15 लाख रुपए तक की आमदनी प्राप्त कर सकता है। 
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments