• 11:22 pm
news-details
खेती

आंवले के प्रसंस्कृत उत्पाद बनाने सिखाए

अभिनव इंडिया/तेजवंत शर्मा
मण्डकौला/पलवल।
चौ. चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार के अन्र्तगत कृषि विज्ञान केन्द्र, मण्डकौला के तत्वावधान में हरियाणा के अनुसूचित जाति के प्रतिभागियों के लिए पांच दिवसीय व्यवसायिक प्रशिक्षण शिविर शुरु हुआ। जिसमें पलवल व मेवात जिलों के विभिन्न गांवों की 30 अनुसूचित जाति की प्रतिभागी भाग ले रही है। कौशल विकास द्वारा आजीविका सुरक्षा योजना के अन्र्तगत बेरोजगार युवतियों, बीच में पढ़ाई छोड़ देने वाली लड़कियों व ग्रामीण महिलाओं के लिए स्वरोजगार सृजन हेतु फल-सब्जी प्रसंस्करण एवं अचार बनाने विषय पर आयोजित शिविर में केन्द्र की वरिष्ठ संयोजक  डा. सुमित्रा यादव ने कृषि विज्ञान केन्द्र के उद्देश्य व इनकी प्राप्ति हेतु चलाई जा रही विभिन्न  गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने आहवान किया कि महिलाएं खाद्य प्रसंस्करण को बतौर स्वरोजगार अपनाकर आय उपार्जन कर स्वावलम्बी बन सकती हैं। स्वरोजगार आरम्भ करने हेतु प्रतिभागियों को सामान योजना के तहत मुहैया कराया जाता है।
वहीं विज्ञान केन्द्र के प्रमुख विस्तार विशेषज्ञ (बागवानी) एवं कार्यक्रम के संयोजक डा. रणबीर सैनी कहा कि विश्व में भारत का फल-सब्जी उत्पादन में द्वितीय स्थान होने, प्रसंस्कृत फल-सब्जी उत्पादों की घरेलु व अन्र्तराष्ट्रीय बाजार में अत्याधिक मांग व प्रसंस्कृत उत्पादों की निरन्तर बढ़ती लोकप्रियता  के बावजूद भारत के कुल फल-सब्जी उत्पादन का मात्र 3-4 प्रतिशत ही प्रौसेसिंग में प्रयोग किया जाता है। इसलिए भविष्य में इसकी अपार सम्भानाएं हैं और यह अत्यन्त लाभकारी व्यवसाय है। उन्होंने महिलाओं को आंवले का मुरब्बा बनाने के लिए प्रिकिंग की मैनुअल व मशीन द्वारा विधि प्रदर्शित की तथा आंवले का मुरब्बा और कैण्डी बनाने सिखाए। क्षे़़त्रीय अनुसन्धान केन्द्र, बावल के सूक्ष्म जीव वैज्ञानिक डा. धर्मवीर पाठक ने प्रतिभागियों से रूबरू होते हुए कहा कि फल-सब्जी के पौष्टिक खाद्य उत्पाद बनाने के बाद भण्डारण के दौरान अनेक सूक्ष्मजीव जैसे फफूंदी, बैक्टीरियां, मोल्ड आदि इन्हें खराब कर देते हैं। जिनसे बचाने के लिए उपयुक्त मात्रा में सिफारिश किये गये परिरक्षकों का प्रयोग करना चाहिए और प्रसंस्करण के दौरान संक्रमण से बचाने के लिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। यह कार्यक्रम आठ नवम्बर तक चलेगा।
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments