sex geschichten - sex geschichten - sex stories - sex stories - xnxx - xnxx - xnxx - xnxx - porno - xhamster - xhamster - hd porno - hd sex - xvideos - xvideos - sex videos - xvideos - brazzers - sex geschichten - pornhub - redtube - sex geschichten - sex stories - xhamster - xnxx - xvideos - youporn - brazzers - brazzers - porno - porno - brazzers - youporn - brazzers - hd porno - xhamster - xnxx - xvideos - youporn - porno - xhamster - xnxx - xnxx - xnxx - xnxx - xvideos - youporn
  • 08:33 am
news-details
पंजाब-हरियाणा

न्याय सुरक्षा सम्मान जनसभा में जमकर बरसे वशिष्ठ कुमार गोयल

अभिनव इंडिया/परमेंद्र कौशिक
तावडू।
न्याय सुरक्षा सम्मान जनसभा में नव जन चेतना मंच के संयोजक वशिष्ठ गोयल क्षेत्र के पिछड़ेपन व दुर्दशा के लिए यहां के नुमाईंदों को जिम्मेदार ठहराया। वहीं प्रदेश सरकार द्वारा क्षेत्र को अपेक्षित करने का आरोप भी लगाया। क्षेत्र में शिक्षा की दिशा में कारगर कदम न उठाए जाने, किसानों की दुर्दशा व रोजगार के अभाव पर गोयल ने प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया। तावडू के रामलीला ग्राउंड में आयोजित रैली में गोयल ने लोगों की दुखती रगों पर हाथ रखते हुए कहा कि वे इस क्षेत्र को अशिक्षा, बेरोजगारी, गुरबत से निजात दिलाने के लिए आए हैं। रैली में सोहना तावडू विधानसभा क्षेत्र के 100 से अधिक पंचायतों के पंच सरपंचों ने पहुंचकर अपना पूर्ण समर्थन दिया और गोयल को क्षेत्र की पगड़ी पहनाते हुए क्षेत्र की वकालत करने की जिम्मेदारी सौंपी। गोयल ने कहा कि हमारा क्षेत्र गुरुग्राम से सटा जरूर है। लेकिन, मेवात का अभिन्न अंग है। आज हमारे युवाओं की दशा क्या है यह सबके सामने है। क्षेत्र के 99 प्रतिशत युवा बेरोजगार हैं, इसके लिए पूरी तरह से यहां के विधायक जिम्मेदार हैं। अगर इस बार उन्हें क्षेत्र की वकालत करने का मौका मिलता है तो क्षेत्र का कोई भी युवा बेरोजगार नहीं होगा। किसानों के पास जाकर अधिकारी एक-एक दाना उनके खेत से खरीदेंगे। गोयल ने कहा कि आज प्रदेश में बेटी बढ़ाओ बेटी बचाओ, शिक्षा, रोजगार को लेकर योजनाएं चलाई जा रही हैं। लेकिन एक भी योजना का लाभ इस क्षेत्र को नहीं मिला। हमारे क्षेत्र के बारे में सोचने वाला नेता विधानसभा पहुंचा होता तो आज हमारा क्षेत्र सबसे विकसित क्षेत्र होता। तावडू सोहना क्षेत्र नेशनल हाईवे दिल्ली जयपुर के अलावा केएमपी एक्सप्रेस वे से जुड़ा होने के बावजूद भी हम देश के सबसे पिछड़े 100 जिलों की सूची में शामिल है। हैरानी इस बात की है कि सरकार की सभी सुविधा हमें मिल सकती है तो यह नेता चुप क्यों बैठे रहते हैं। आखिर नेता क्यों हमें गुलाम बना कर रखना चाहते हैं। यह समझना होगा क्योंकि अब वह समय आ गया है कि जब हम क्षेत्र के बारे में खुद का निर्णय सुनाएं। इस मौके पर मंच के अध्यक्ष डॉ सर्वदानंद आर्य, प्रभारी विनोद नम्बरदार, राजकमल सिंगला, डॉ संजय दायमा, राजेन्द्र दायमा, लिखी सरपंच, साहबराम, सत्ते सरपंच, राजपाल फौजी, अरुण अरोरा, लाल सिंह, मुकेसब सिंह, ओमबीर गहलोत, पप्पू, हेमराज मौजूद रहे।        
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments