• 10:23 pm
news-details
मूवी

अज्ञात प्रेमिका में दिखाया नीरस जिंदगी को रोमांचक बनाना  

-त्रिखा थियेटर एकेडमी में गुलदस्ता कार्यक्रम में तीन नाटकों का मंचन  
अभिनव इंडिया/रंजीता आर्या
नई दिल्ली।
यह सच है कि आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में हर कोई परेशान है। जिंदगी में खुशियों से ज्यादा निराशाएं, नीसरताएं आ गई हैं। ऐसे में कुछ तो हो, जिससे कि जिंदगी आसान बन जाये और नीरस जिंदगी रोमांचित हो जाये। इसी के मद्देनजर गुरुग्राम के सुशांत लोक स्थित त्रिखा थियेटर एकेडमी में दर्शकों के सामने नाटकों के माध्यम से नीरस जिंदगी को रोमांचक बनाने के लिए कलाकारों ने प्रस्तुति दी। इस मौके पर हरियाणा कला परिषद के क्षेत्रीय निदेशक महेश जोशी मुख्य अतिथि, रिटायर्ड आईपीएस अनिल धवन विशिष्ट अतिथि रहे। मंच संचालन नेहा गौड़ ने किया। त्रिखा थियेटर एकेडमी के निर्देशक विश्वदीपक त्रिखा के मुताबिक अविघ्न थियेटर गु्रप के गुलदस्ता कार्यक्रम में तीन लघु नाटकों का यहां बेहतरीन मंचन किया गया। इसमें दो नाटक अज्ञात प्रेमिका व रीढ़ रहित थे तथा तीसरा नाटक मराठी साहित्कार वपु काव्ठे की रचनाओं पर आधारित पप्पा था। अज्ञात प्रेमिका की कहानी ढर्रे पर चल रही दिन-प्रतिदिन की नीरस जिंदगी को रोमांचक बनाने के जोड़-तोड़ से उपजती हास्यास्पद स्थितियों का म्यूजिकल चित्रण था। आधे घंटे के इस नाटक में लोगों को हंसाने के साथ कई संदेश भी दिये गये। जिदंगी को खुलकर जीने के लिए प्रेरित किया गया। इस नाटक में तेजस, संदीप जोशी, सुहासिनी दिघे, रोहित तिवारी और डा. पारुल प्रिंजा ने अभिनय किया। इस नाटक के निर्माता एवं निर्देशक रूप किशोर निशीत और सुहासिनी दिघे हैं। दूसरे नाटक रीढ रहित का कहानी अपने अधिकारों के प्रति जागरुक होकर उनके लिए आवाज उठाने और उन्हें हासिल करने के लिए प्रयास करने को प्रेरित होने की थी। इस विषय के साथ नाटक में हास्यास्पद बातें भी आई। कलाकारों ने बेहद ही खूबसूरत ढंग से लोगों को अपने अधिकारों के प्रति जागरुक होने के प्रति जागरुक किया। रोहित तिवारी और डा. पारुल प्रिंजा इसके अहम किरदार थे। दोनों के बीच कलात्मकता का बेहद ही बेहतरीन सामंजस्य रहा। तीसरा नाटक पप्पा था। यह चुप्पी से उजागर हुई मानवीय संवेदनाओं के पीछे के कारणों की गुत्थी को सुलझाती एक मर्म स्पर्शी प्रस्तुति थी। सुहासिनी दिघे, संदीप जोशी और तेजस के अभिनय ने इस नाटक में जान डाल दी। नाटक को इस तरह से पेश किया गया कि दर्शक बंधे से बैठे रहे। कार्यक्रम में युवराज शर्मा, अर्जुन वशिष्ठ, मोहन कांत, हर्षवर्धन, नवनीत कापुर, डा. तरुण शेर सिंह, सीआर बिश्नोई, जॉली टुल्ली, कुलदीप, संजय शर्मा, जतिन यादव और कर्नल जेके सिंह ने अपनी भूमिका निभाई। 
 

You can share this post!

Comments

Leave Comments